An article by Ravish Kumar (NDTV) on the current state of journalism


Naisadak reports:
बलों में बल मनोबल ही है। बिन मनोबल सबल दुर्बल। संग मनोबल दुर्बल सबल। मनोबल बग़ैर किसी पारंपरिक और ग़ैर पारंपरिक ऊर्जा के संचालित होता है। मनोबल वह बल है जो मन से बलित होता है। मनोबल व्यक्ति विशेष हो सकता है और परिस्थिति विशेष हो सकता है। बल न भी रहे और मनोबल हो तो आप क्या नहीं कर सकते हैं.
Source   Reader   More news

LUV

SAD

WOW

MEH

GRR

HUH

LOL

0

0

0

0

0

0

0

Younews helps you discover trending news like this by analyzing social media signals, then auto-summarizing it. Read more clicking Source or Reader above.
This story is trending. Share it.